माँ

Bhawuk on May 8th, 2011

ए बबुआ.. ए बेटा पहुँच गए । ‘हाँ माँ ‘ …………. ‘ अरे मेरे बाबू ‘ ……….. कह कर रोने लगी थी माँ । मुझसे कुछ बोला नहीं गया ……….. माँ की आवाज काँप रही थी। माँ बहुत घबरायी हुयी थी। लोगों ने कह दिया था युगांडा बहुत खतरनाक देश है। दिन दहाड़े लूट लेते […]

Continue reading about मेरी माँ