वीर कुंवर सिंह का 155 वां विजयोत्सव पहली बार राष्ट्रपति भवन में मनाया गया . वीर कुंवर सिंह फाउंडेशन, नई दिल्ली द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम की शुरुआत विजयोत्सव समारोह की मुख्य अतिथि राष्ट्रपति, भारत श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने वीर कुंवर सिंह के फोटो पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजली देते हुए की . तदोपरांत महामहीम […]

Continue reading about वीर कुंवर सिंह जयन्ती पहली बार राष्ट्रपति भवन में

मनोज भावुक को बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड (मेल) और श्वेता तिवारी को बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड (फीमेल) से सम्मानित किया गया . यह सम्मान उन्हें पूर्वांचल एकता मंच द्वारा दिल्ली में आयोजित ६ठवें विश्व भोजपुरी सम्मेलन में दिया गया. इस अवसर पर हिन्दी एवं भोजपुरी सिनेमा जगत की कई बड़ी हस्तियाँ सुनील सेट्टी, कुणाल सिंह, […]

Continue reading about मनोज भावुक एवं श्वेता तिवारी को बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड

सुप्रसिद्ध भोजपुरी साहित्यकार मनोज भावुक  को पूर्वांचल भोजपुरी महासभा , गाज़ियाबाद द्वारा  10 मार्च, 2012 को संस्था के सबसे प्रतिष्ठित अवार्ड पूर्वांचल गौरव सम्मान से सम्मानित किया गया। उन्हें यह  सम्मान प्रदान किया गार्डेनिया ग्रुप के चेयरमैन मनोज राय ने।  मनोज को यह  सम्मान भोजपुरी की तमाम संस्थाओं  के साथ साहित्यिक  और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत […]

Continue reading about मनोज भावुक को पूर्वांचल गौरव सम्मान

Bhawuk on April 12th, 2012

चारे दिन के मुलाक़ात में लव भइल बात ही बात में कैद हो गइनी अचके में हम उनका दिल के हवालात में आँख में हमरा उमड़ल घटा डूब गइलें ऊ बरसात में प्यार ना हs त का ई हवे जिक्र बा तहरे हर बात में मांग अब तू सजा दs ’मनोज’ कब ले जीयब खयालात […]

Continue reading about लव भइल बात ही बात में

  रूप के धाह में ज़रा गइलू बाप रे बाप ! तू मुआ गइलू अनसोहातो तू मुस्कुरा गइलू मन के छुअलू आ मन के भा गइलू हम त सुख-चैन से रहीं जीयत राह में तू कहाँ से आ गइलू हम ज़माना से दूर हो गइनी जब से हियरा में तू समा गइलू आज मन बा […]

Continue reading about रूप के धाह में ज़रा गइलू

बढ़ते जाता दिल के दरदिया गोरिया तोहरा बिन कि अइसे कहिया ले हम काटीं दिनवा अंगुरी पर गिन- गिन तू गइल त गइल बहार, दिनवो लगे अन्हारे कइसे बतलाईं कि केतना तडपेला जिउआ रे करवट बदलत रात कटेला और सोचते दिन कि अइसे……………………………………. प्यार के बतिया, तोहरी सुरतिया, चित्त से ना उतरेला कइसे सूतीं याद […]

Continue reading about बढ़ते जाता दिल के दरदिया गोरिया तोहरा बिन