हिन्दी साहित्य को आवाज की दुनिया से जोड़ने और पॉडकास्टिंग को प्रोत्साहित करने के लिए हिन्दी की चर्चित वेबपत्रिका ‘हिन्दयुग्म’ द्वारा आयोजित दूसरे ‘गीतकॉस्ट प्रतियोगिता’ के विजेता बने हैं धर्मेंद्र कुमार सिंह। धर्मेंद्र वर्तमान में हमार टीवी में एसोसिएट प्रोड्यूसर हैं। ‘गीतकॉस्ट प्रतियोगिता’ में हिन्दी के महान कवियों की कविताओं को सुरबद्ध और संगीतबद्ध किया […]

Continue reading about ‘हमार’ के धर्मेंद्र ‘गीतकॉस्ट प्रतियोगिता’ के विजेता

प्रस्तुतिः दिल्ली से आलोक सिंह ‘साहिल’ (An article courtsey www.Hindyugm.com) See Video कहते हैं उतरती हुई सर्दी गुलाबी हो जाती है और ऐसी सर्दी में जब पुरबिया माटी के लाल शब्दों के गुलाल से एक-दूसरे को रंगने अखाडें में उतर आयें तो फ़िर क्या कहिये! ऐसा ही कुछ नजारा था दिल्ली के श्रीराम सेंटर का […]

Continue reading about पहला भोजपुरी-मैथिली कवि सम्मेलन

प्रस्तुतिः मनोज भावुक ई साँच बा कि भोजपुरी एगो अंतर्राष्ट्रीय भाषा ह, भलहीं अपनहीं देश में इ उपेक्षित काहें ना होखे। दोसर साँच इ बा कि जब से गीत आ फिल्म के माध्यम से विश्व स्तर पर भोजपुरी के पताखा फहरल बा, जे के देखीं सेही भोजपुरिए क्षेत्र में आपन बहिनउरा आ ननिअउरा बतावत बा। […]

Continue reading about विश्व पटल पर गूंजल भोजपुरियन के आवाज

दिनांक 1.6.2009 को इग्नू प्रांगण के मानविकी विद्यापीठ में ’’भोजपुरी भाषा में सर्टिफिकेट कार्यक्रम’’ से संबंधित विशेषज्ञ समिति की बैठक संपन्न हुई। इस बैठक का शुभारंभ करते हुए इग्नू के कुलपति, प्रो. वी.एन. राजशेखरन पिल्लई ने कहा कि 20 करोड़ से भी अधिक आबादी द्वारा बोली जाने वाली भाषा पर पाठ्यक्रम बनाने की योजना बहुत […]

Continue reading about इग्नू में भोजपुरी भाषा पाठ्यक्रम के बढ़ते कदम

प्रस्तुति – मनोज भावुक (An article courtsey The Sunday Indian magazine-by Manoj Bhawuk) दिल्ली में भइल विश्व भोजपुरी सम्मेलन मे लोग असम आ महाराष्ट्र के हाल पर रोष जतवलें… भोजपुरी के बाजार गरम बा ! …एगो त बाज़ार आ उहो गरम! बाजार शब्दे में बाज छिपल बा, जवना के काम ह झपट्टा मारल …आ जब […]

Continue reading about विश्व भोजपुरी सम्मेलन, दिल्ली ( २००८)

डा. प्रभुनाथ सिंह से मनोज भावुक के बातचीत डूमरी कतेक दूर अब नियराइल बा – डा. प्रभुनाथ सिंह सुन के धक से लागल कि डा. प्रभुनाथ सिंह ना रहनी. काल्हे त बात भइल रहे – ना, अभी हमरा इहां हमार टी वी नइखे आवत.—-ह हो सोचते रह गइनी. …….अच्छा ,गांव से लौट के आवत बानी […]

Continue reading about डूमरी कतेक दूर अब नियराइल बा – डा. प्रभुनाथ सिंह

”भोजपुरी के झंडा तोहरा हाथ में बा.ओकरा के देश में फहरावs”—केदारनाथ सिंह ”अमरे होखे खातिर सरहद बनावल गइल बा , का ए हमार बाबू ‘. इस कविता ने एक बूढ़ी मां के कोख के दर्द को उकेर दिया।मनोज भावुक ने काव्य पाठ शुरु किया तो पूरा माहौल,शहीद बेटे की बूढ़ी मां के व्यथा को सुन […]

Continue reading about अमरे होखे खातिर सरहद बनावल गइल बा का, ए हमार बाबू

‘हमार’ के सीईओ गए, मनोज भावुक आए हमार टीवी से एक के जाने और एक के ज्वाइन करने की खबर मिली है. ग्रुप सीईओ के पद पर आए संजीव अरोड़ा की कुछ महीने बाद ही इस समूह से विदाई हो गई है. सूत्रों के मुताबिक प्रबंधन से संजीव अरोड़ा की पटरी नहीं बैठ पाई इस […]

Continue reading about हमार टीवी के क्रिएटिव हेड बने मनोज भावुक

गणतन्त्रा दिवस कविता-उत्सव मुम्बई को दिल्ली से सबक लेना चाहिए :- किरण वालिया दिल्ली सबको अपनाती है। यहॉ एक चौथाई मैथिली-भोजपुरी भाषी है। दिल्ली उन्हें अपना समझती है। उनके भाषा और संस्कृति का सम्मान करती है और वे लोग भी दिल्ली को अपना शहर मानते हैं। मुम्बई को दिल्ली से सबक लेना चाहिए। ये बातें […]

Continue reading about गांव में हवेली सुनसान, शहर में छोटी मुकी मकान…

भोजपुरिया शिखर सम्मेलन में लोकार्पित हुआ मनोज भावुक का चर्चित ग़ज़ल संग्रह 20 फरवरी की शाम एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इण्डिया, दिल्ली के आफिसर्स इंस्ट्यूशनल क्लब में अन्तरराष्ट्रीय स्तर के भोजपुरी के चिन्तको की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। बैठक की अघ्यक्षता भोजपुरी समाज, दिल्ली के अघ्यक्ष अजीत दूबे, संचालन डॉ रमाशंकर श्रीवास्तव एवं संयोजन मनोज भावुक […]

Continue reading about लोकार्पित हुआ मनोज भावुक का चर्चित ग़ज़ल संग्रह